पटना, (रिपोर्टर) :  दीप ज्योति कल्याण नालंदा तथा मध्यांचल फोरम नई दिल्ली के संयुक्त तत्वाधान में दलित एवं महादलित समुदाय के वासिगत  जमीन हेतु राज्य स्तरीय सरकार से परिसंवाद कार्यक्रम का आयोजन किया ।
 मध्यांचल फोरम के निदेशक संतोष सामल ने अपने संबोधन में कहा कि बिहार सरकार दलित एवं महादलितो के बीच भूमि के संदर्भ में काफी सजग है ।   सरकार ने बहुत सारे कानून एवं योजनाओं का निर्माण किया है , जमीन की पहुंच के लिए दलित एवं महादलितों को उनके आबादी के अनुसार जमीन में भागीदारी दिलाने की आवश्यकता है ।
 संस्थान और फोरम द्वारा बिहार के नालंदा , नवादा , शेखपुरा , गया एवं जहानाबाद जिलों में एक सर्वेक्षण कर सरकार द्वारा दलित एवं महादलितों के बीच चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं का सर्वेक्षण भी की गई है ए जिसकी एक संक्षिप्त रिपोर्ट जल्द ही बिहार सरकार के समक्ष साझा किए जाएंगे ।
    उन्होंने  कहा कि अपने बच्चों को शिक्षित करें महात्मा गांधी ने संदेश दिया था जब तक समाज शिक्षित नहीं होगा , बच्चा शिक्षित नहीं होगा , देश हमारा विकसित नहीं होगा इसलिए दलित महादलित के बच्चों को शिक्षा लेना बहुत जरूरी है । 
  संवाद में विभिन्न संगठनों संस्थाओं के प्रतिनिधियों के अलावे सरकार के पदाधिकारियों ने दलित- महादलित परिवारों को आवासीय भूमि जमीन  अभिलंब देने पर जोर देते हुए अपनी बात रखी ।   सुबोध कुमार रविदास ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  द्वारा दलित महादलित के उत्थान के लिए मुख्यमंत्री दलित उद्यमी योजना  , मुख्यमंत्री परिवहन योजना  तथा उन्हें आगे बढ़ाने के लिए ढेर सारी कल्याणकारी योजनाएं चलाए गए हैं  परंतु कुछ लोग जानकारी के  अभाव में योजनाओं से वंचित  रह जा रहे हैं ।
इस अवसर पर  सरयुग रविदास , मुनिदेव रविदास , राजेश कुमार ,गोरेलाल पासवान , कार्यानंद भारती , विष्णुदेव पासवान, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बिंदेश्वरी प्रसाद सिंह, विद्यानंद राम,  राकेश कुमार,  पंकज स्वेताभ, गजेंद्र मांझी, अजय कुमार,  अशर्फी सदा, प्रो. मिथिलेश कुमार , ई. विजय कुमार समेत अन्य उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: