पटना, (रिपोर्टर) :  राजद पर हमला बोलते हुए भाजपा प्रवक्ता सह पूर्व विधायक राजीव रंजन ने कहा “ राजद पर कमजोर पड़ती अपनी पकड़ और पार्टी को दो फाड़ होने से बचाने के लिए तेजस्वी एक बार फिर से लालू जी के पीछे छिप चुके हैं. दरअसल पार्टी की कमान अपने हाथों में लेने के बाद तेजस्वी जी ने जिस तरह राहुल गाँधी की राह पकड़ी है, उससे राजद में जबर्दस्त घमासान मचा हुआ है. लोकसभा चुनावों में राजद को मिली आज की सबसे करारी हार, पार्टी को बीच मंझधार में छोड़ गुप्त छुट्टियों में व्यस्त रहना और जबरदस्ती की तानाशाही जैसी उनकी आदतों से राजद के आम नेता आजिज आ चुके थे।  यह बात तेजस्वी जी को समझ में आ चुकी है, इसीलिए बीमार होने के बावजूद जैसे राहुल जी ने सोनिया जी को आगे किया था, उसी की तर्ज पर उन्होंने लालू जी को आगे कर दिया. उन्हें लगता है कि इससे उनकी पार्टी भी बची रहेगी और पार्टी में उनकी हनक भी. तेजस्वी जी यह जान लें कि भले ही राजद के कार्यकर्ता लालू जी का लिहाज कर फ़िलहाल शांत हो जाएं, लेकिन विधानसभा चुनाव आते-आते उनका गुस्सा निश्चय ही फिर भड़क उठेगा. राहुल जी की बेपरवाह और गैरजिम्मेवार राजनीति की जिस राजनीति को उन्होंने अपनाया उससे राजद में टूट पड़नी निश्चित है।

श्री रंजन ने कहा “ तेजस्वी जी की हालिया राजनीतिक स्टाइल को देखें तो उनकी राजनीतिक गाड़ी राहुल जी के दिखाए रास्तों पर चलती नजर आती है. उन्ही के स्टाइल में जनता तथा कार्यकर्ताओं से कटे रहना, गुप्त छुट्टियों पर गायब हो जाना, और बीच-बीच में खोखली बयानबाजी के सहारे अपनी राजनीतिक विरासत बनाए रखने की असफ़ल कोशिश करते रहना, जैसे गुण उनमें साफ़ देखे जा सकते हैं. पिछले लोकसभा चुनाव में पार्टी की दुर्गति करवाने के बावजूद अभी तक इनकी शाही ठसक में कोई कमी नही देखी जा सकती. राहुल की ही तरह महागठबंधन के अन्य दल अब इन्हें भी नेता मानने से इंकार कर चुके हैं. फिर भी इनकी राजनीति में कोई बदलाव नही होने से ऐसा लगता है कि राहुल गाँधी की राह पर चलते हुए अब शायद इन्होने ने भी अपनी पार्टी को समाप्त करने की कसम खा ली है।


Share To:

Post A Comment: