रांची, (रिपोर्टर) : आईआईसीएम का अपना एक स्वर्णिम इतिहास रहा है एकोल इंडिया से जुड़े हुए देश के हर इकाई के अधिकारी पदाधिकारी यहां ट्रेनिंग के लिए आते हैं और अपना भविष्य का मार्ग दर्शन लेकर जाते हैं मगर आज भी इस कैंपस के अंदर पिछले  25 सालों से काम करने वाले कर्मचारियों को कोल इंडिया से मिलने वाली सुविधा बहाल नहीं की जा रही है जो दुर्भाग्यपूर्ण है । उक्त बातें  आईआईसीएम श्रमिक संघ की बैठक में उपस्थित मुख्य अतिथि   झारखंड मजदूर कल्याण संघ के अध्यक्ष व पूर्व विधायक राजेश रंजन ने कही। उन्होंने कहा कि जल्दी ही कोल मंत्री से मिलकर  इस संदर्भ में उनका ध्यान आकृष्ट कराएंगे।
       इस अवसर पर आईआईसीएम श्रमिक संघ के अध्यक्ष अजय राय ने कहा कि  सर्वोच्च न्यायालय के उस फैसले को लेकर हम कोर्ट जाएंगे जिसमें कहा गया है की एक ही संस्थान में लगभग 10 सालों से ऊपर कार्य कर रहे ठेका कर्मियों को नियमित किया जाए ।
     अजय राय ने कहा कि 1994 में आईआईसीएम की न्यू रखी गई थी तब से लेकर आज तक जो कर्मचारी जिस काम में लगा हुआ है उसके हालात वैसे ही हैं उन्हें वरीयता का लाभ कहीं कुछ नहीं मिल पा रहा है जबकि आईआईसीएम कोल इंडिया का एक स्वतंत्र इकाई है जहां हर फैसले लेने के लिए वह स्वतंत्र है ।
 अजय राय ने कहा कि हम सब चाहते हैं आईएसीएम का जो गरिमा है वह बनी रहे और कर्मचारियों को भी उनका सम्मान मिल पाए।
 इस अवसर पर मनोज कुमार सिंह, रमेश साह,ू विजय शर्मा, धर्मेंद्र कुमार, शिबू कुमार सिन्हा, वीर बहादुर सिंह अखा, बेहरा, रूपेश कुमार, मनोज मलिक, नितेश कुमार, राजेश मिश्रा सहित काफी संख्या में श्रमिक संघ के सदस्य बैठक में शामिल हुए।

Share To:

Post A Comment: