पटना, (रिपोर्टर) :   लोजपा (सेक्यूलर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. सत्यानन्द शर्मा ने 19 जनवरी को मानव श्रृंखला से स्कूली छात्रों और शिक्षकों कों दूर रखने की मांग करते हुए कहा कि भिषण ठंढ़ और कड़ाके की शीतलहरी को देखते हुए बच्चों को इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सरकारी और गैर सरकारी विधालयों के छात्रों को शामिल होने के लिए दवाब दिया जा रहा है यह बाल संरक्षण कानून के विरुद्ध है। 

 

         डा. शर्मा ने कहा कि राजनेता अपनी लोकप्रियता साबित प्रदर्शित करने के लिए मानव श्रंखला जैसा कार्यक्रम करते है इसके लिए सत्ता सीन नेता अपने पद और प्रभुत्व का दुर्पयोग करके सरकारी अधिकारीयों को कार्यक्रम की सफलता के लिए टारगेट दिया जाता है। जल जीवन हरियाली आम जनता पृथ्वी के सभी जीव प्राणियों के लिए आवश्यक भूतल जल स्तर जिस तरह नीचे भाग रहा है उसे बचाने और प्रकृतिक संतूलन को बनाये रखने की जरुरत है। इसे मानव श्रृंखला बनाकर नहीं बचाया जा सकता है। इसे बचाने के लिए सरकार को युद्धस्तर पर कार्यक्रम तय करके योजना बनाने की जरूरत है। स्कूलों के पाठ्यक्रमों में जल जीवन हरियाली की महन्ता को शामिल किया जाना उपयोगी होगा।

         डा. शर्मा ने कहा कि नदिया विलूप्त हो रही है। नदियों का तल सिलटेड हो गया हैै। नदियों को तल की सफाई करा कर नदियों को जोडऩे का अभियान सरकार को शुरू करना चाहिए। इससे बाढ़ प्रभावित ईलाकों का क्षेत्रफल घटेगा और बाढ़ को त्रासदी से मुक्ती मिलेगा।



Share To:

Post A Comment: