पटना, (रिपोर्टर) : टॉल फ्री नम्बर पर कॉल करने पर घर तक पहुंच जायेगी ताजा व मनपसंद मछली। बायोफ्लॉक तकनीक से रोजगार का अव सर बढ़ेगा। सूचना भवन में पत्रकारों से वार्तालाप कर पशु मत्स्य संसाधन मंत्री डा. प्रेम कुमार ने कहा कि मछली उत्पादन मं बायोफ्लॉक तकनीक कारगर होगा, इससे रोजगार का अवसर भी मिलेगा। इस योजना को घर के छतों पर लागू किया जा सकता है। तकनीकी ज्ञान के लिए चालू वित्तीय वर्ष में 260 किसानों को प्रशिक्षण दियाजायेगा। किसान जिलों में आवेदन देंगे। इस योजना केलिए जेनरल सब्सिडी को 50 प्रतिशत एवं एससी, एसटी को 75 प्रतिशत का सब्सिडी मिलेगी। उन्होंने कहा कि लोगों को ताजा व मनपसंद मछली के लिए मंडी नहीं जाना पड़ेगा। टॉल फ्री नम्बर पर कॉल करने के बाद वाहन के माध्यम से घरों तक मछली पहुंच जायेगी। शीघ्र ही टॉल फ्री  नम्बर जारी किया जायेगा।
उन्होंने कहा कि राज्य में पशु पालन के बढ़ावा को लेकर बकरी, मछली, गौ के तर्ज पर भेड़ पालन का पायलॉट प्रोजेक्ट बनाया जा रहा है। प्रदेश में 86 गौशाला है। पटना में 5.5 करोड़ की लागत से आधुनिक गौशाला का निर्माण किया जायेगा। गौमूत्र एवं गोबर को व्यवसायिक बनाया जायेगा। वित्तीय वर्ष 2019-20 में पशु चिकित्सा सेवा तथा पशु स्वास्थ्य योजना के तहत 32.90 लाख पशु चिकित्सा 81 हजार पशुओं का बंध्याकरण एवं 25,400 नमूनों की पैथोलॉजिकल जांच किया गया है। समेकित मुर्गी विकास योजना के तहत लो-इनपुट प्रजाति के कुकुटों का उत्पादन एवं वितरण योजना में विभागीय स्तर से 68,300 चूजों का वितरण हुआ। 5000 एवं 10,000 क्षमता के लेयर फार्म पर अनुदान योजना अन्तर्गत 196 लक्ष्य के विरूद्ध 529 आवेदन प्राप्त हुआ जिसका स्क्रीनिंग किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सहकारी दूध शीतक केन्द्रों पर दूध में मिलावट की स्वचालित जांच हेतु 12.89 करोड़ की लागत से 364 मिल्कोस्क्रीन मशीन लगाया गया है। कॉफ्फेड द्वारा वित्तीय वर्ष 2018-19 में 19.31 ल ाख किलो दूध प्रतिदिन संग्रहण किया गया। एग्रीकल्चर टूडे गु्रप द्वारा इंडियन डेयरी अवार्ड 2020 के लिए कॉफ्फेड पटना को सर्वश्रेष्ठ स्टेट डेयरी फेडरेशन का पुरस्कार दिया गया है।
संवाददाता सम्मेलन में पशु मत्स्य संसाधन निदेशक विनोद ङ्क्षसह गुजियाल, डा. एके झा, डा. नागेन्द्र कुमार, केशवेन्द्र कुमार समेत अन्य उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: