पटना, (रिपोर्टर) : कॉफ्फेड निदेशक ऋषिकेश कश्यप निषाद ने कहा कि मछली उत्पादन के क्षेत्र में बायोफ्लॉक तकनीक कारगर साबित हो रही है। केन्द्र सरकार के तर्ज पर अगर राज्य सरकार कदम बढ़ाती है तो बिहार के लोगों को न केवल ताजा मछली मिलेगा बल्कि रोजगार का अवसर बढ़ेगा। प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से वार्तालाप कर उन्होंने कहा कि बिहार में प्रतिवर्ष 8 लाख मिट्रीक टन मछली की खपत है जिसमें 6 लाख मिट्रीक टन उत्पादन होत है। 2 लाख मिट्रीक टन के  िलए 2 हजार करोड़ रुपया अन्य राज्य को भुगतान करना प ड़ता है। राज्य सरकार प्रदेश में बायोफ्लॉक तकनीक एंपलीमेंट कराती है तो साल भर में बिहार मछली उत्पादन में स्वाबलम्बी हो जायेगा। उन्होंने कहा कि कॉफ्फेड कार्यालय में लोग बायोफ्लॉक तकनीक का प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। बायोफ्लॉक का एक यूनिट स्थापित करने पर कम से कम  10 लोगों को रोजगार मिलेगा। संवाददाता सम्मेलन में नरेश कुमार सहनी, जयशंकर समेत अन्य उपस्थित थे।

Share To:

Post A Comment: