पटना, (रिपोर्टर) : वैश्य महापंचायत समन्वय समिति की राज्यस्तरीय कार्यसमिति की प्रथम बैठक  ई.सुंदर साहू की अध्यक्षता में बैठक संपन्न। मंच संचालन डा.जगन्नाथ प्रसाद गुप्ता ने किया। बैठक में चुनाव के पहले महापंचायत का राज्यव्यापी रैली अप्रैल माह में करने का निर्णय लिया गया।

        बैठक को संबोधित कर वक्ताओं ने कहा कि  आजादी के सात दशक बाद भी सर्वाधिक आबादी वाला वैश्य समुदाय सामाजिक, आर्थिक, शैक्षिक व राजनैतिक रूप से काफी पिछड़ा हुआ है।  लोकतंत्र में चाहे विधानसभा हो विधानपरिषद हो या लोकसभा सभी में वैश्य समाज की भागीदारी व हिस्सेदारी नगन्य है।  यही कारण है की वैश्य समाज अपराधियों, लुटेरों व गिरोहों के निशाने पर रहता है। सर्वाधिक पच्चीस फीसदी आबादी वाले वैश्य समाज का प्रतिनिधित्व विधानसभा में करीब साठ के करीब होना चाहिए लेकिन अब तक ऐसा नहीं हो सका है। मंजीत आनन्द साहू ने कहा की  आगामी 2020 विधानसभा चुनाव में वैश्य समाज को महज वोट बैंक समझने वाली पार्टियों सहित सभी राजनैतिक दलों ने अगर वैश्य समाज की महत्ता को नहीं समझा तो वैश्य महापंचायत करीब साठ विधानसभा को चुनकर एक बड़ा राजनैतिक निर्णय लेने का काम करेगा। 

         इस बैठक में समन्वय समिति के सदस्य डा. विमल कारक,  कमल नोपानी, पी.के. चौधरी,  दीपक अग्रवाल, डा.आनन्द कुमार , मंजीत आनन्द साहू , संतोष कुमार, रविकांत चौरसिया, नन्दकिशोर पोद्दार, अजय गुप्ता, विनोद गुप्ता, कुमार सुंदरम, किशोर कुमार लहेरी, अमन आर्यन, धनजी प्रसाद, अरुण कुमार,सहित अन्य गणमान्य नेताओं ने कार्यसमिति की बैठक को संबोधित किया।



Share To:

Post A Comment: