रांची, (रिपोर्टर) : पिछले दिन झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को गला में दर्द होने के कारण अपने आवास पर गरीब-गुरबा का शिकायत सुना तथा उस पर कार्रवाई करने का आदेश दिया। जब उनके आवास पर लोग शिकायत करने आ रहे थे तब उसी समय उन्होंने कहा कि मुझे अपना दर्द का परवाह नहीं, मैं झारखंडवासी का दर्द सुनता हॅू। रोज की तरह आज भी हजारों की संख्या में फरियादी उनके आवास पर पहुंचे जहां उन्होंने शिकायत सुनी तथा सरकार ने भी मदद का आश्वासन दिया।
उन्होंने कहा कि झारखंड में सचिवालय की तरह गांव देहात भी चकाचक होना चाहिए, तभी मेरा सपना पूरा होगा। सडक़ उस तरफ बनना चाहिए जो आदमी के चलने लायक है। हमारी पहली प्राथमिकता है कि झारखंड में अंतिम पायदान में रहने वाले व्यक्तियों को सरकार के योजनाओं का लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े इमारत बना देते हैं पुल-पुलिया बना देते हैं और लोगों को दो वक्त की रोटी नहीं मिले, रहने का घर नहीं हो तो इस तरह के निर्माण से लोगों का क्या फायदा। हमारा विश्वास है कि झारखंड के अंतिम पायदान में रहने वाले सभी जाति-धर्म के लोगों को रांची की तरह उनका भी घर हो।

Share To:

Post A Comment: