पटना, (रिपोर्टर) : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के कैंपस में नकाबपोश लोगों द्वारा छात्रों पर जानलेवा हमले की निष्पक्ष जाँच और पुलिस प्रशासन की अनैतिकता के खिलाफ जनतांत्रिक विकास पार्टी ने आज कारगिल चौक पटना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का पुतला फूंका। इस मौके पर पार्टी के तकनीकी प्रदेश अध्यक्ष इंजीनियर रवि प्रकाश ने कहा कि JNU में हुए हमले की पूरी जबाबदेही केंद्र सरकार की है। नक़ाब पोश  गुंडों द्वारा JNU के छात्रों और शिक्षकों पर किया गया क्रूर हमला चौंकाने वाला है। कई छात्र गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।


उन्होंने कहा कि आज देश को फासीवादी और मनुवाद की ताकतें चला रहीं हैं, जो बहादुर छात्रों की आवाज से डरती हैं। JNU में आज की हिंसा उसी डर का उदाहरण है। युवा प्रदेश  अध्यक्ष संतोष कुमार यादव ने कहा कि मोदी नेकपड़ेवाला बयान दिया तो उस दिन पहचान कर पीटा गया। योगी कापरदर्शनकारियों से बदलेवाला बयान आया तो पीटा गया। आज अमित शाह ने JNU का रैली में नाम लिया तो आज फिर पीटा गया।मतलब नेता रैलियों से हिंट देते हैं,ज़मीन पर काम हो रहा है।

उन्होंने कहा कि अगर मोदी सरकार इतना काबिल है कि वो कपड़े  पहने लोगो को पहचान सकती है तो इन नाकापोश गुंडों को क्यो नही पकड़ रही है? ये सरकार सिर्फ हिन्दू मुस्लिम की राजनीति कर रही हैं और युवाओं को आपस मे लड़ा कर देश की मुख्य मुद्दा छिपा रही हैं।


वहीं, छात्र युवा प्रदेश अध्यक्ष आयुष कुमार ने कहा किJNU में लेफ्ट के छात्र सभी फीस हाइक को लेकर विरोध में थे और और जिसको लेकर ABVP के छात्रों ने लेफ्ट के छात्रों को नकाब पहन कर बुरी तरह हमला किया और बेरहमी से मारा। उन्होंने शिक्षकों को भी नहीं छोड़ा और उनकी भी पिटाई कर दी। जो छात्र अपने गुरु को पीट रहा है वो इंसान नही दैत्य है। हम केंद्र सरकार से अपील करते है कि अपनी गुंडा गर्दी, RSS और ABVP के दम पर करना बंद करें और छात्रों के फी हाइक को आप राजनीतिक मुद्दा बनाना बंद करे।

इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष मनोज उजाला, तकनीकी प्रदेश अध्यक्ष 0 रवि प्रकाश,युवा प्रदेश अध्यक्ष संतोष यादव,छात्र प्रदेश अध्यक्ष आयुष,किसान प्रकोष्ठ अध्यक्ष जगनारायण पटेल,युवा प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश रंजन,तकनीकी मीडिया प्रभारी बसंत कुमार,तकनीकी प्रदेश महासचिव निकेश राय,संदीप कुमार, रामवचन राम,आनंद कुमार,इरशाद ,तनवीर समेत सैकड़ों लोग शामिल हुए

Share To:

Post A Comment: