पटना, (रिपोर्टर) :बिहार निषाद संघ कार्यालय में संघीय सचिव मंडल की बैठक प्रदेश अध्यक्ष ई. हरेन्द्र प्रसाद निषाद की अध्यक्षता में की गयी। बैठक में संघ के प्रधान महासचिव रामाशीष चौधरी ने परंपरागत मछुआ जाति की सूची जारी कर मत्स्यजीवी सहयोग समितियों से गैर मछुआ सदस्यों को निष्कासित कर परंपरागत मछुआ जाति को ही सदस्य बनाने की मुख्यमंत्री से मांग की। क्योंकि बिहार जलकर प्रबंधन 2006 में संशोधन अधिनियम 2007-10 के अनुसार मत्स्यजीवी सहयोग समितियों के सदस्य परंपरागत मछुआ ही होंगे।
संघ के मुख्य संरक्षक चरितर चौधरी ने कहा कि न्यायालय प्रबंधक सहयोग समितियां एवं निबंधक सहयोग समितियां, बिहार ने निदेशक मत्सय विभाग को परंपरागत मछुआ एथेंटीक सूची प्रकाशित करने का आदेश दिया है। लेकिन आज तक नहीं हो सका, जो खेद का विषय है। महासचिव अवध कुमार चौधरी ने कहा कि अगर सरकार एक माह में परंपरागत मछुआ जाति की सूची जारी नहीं करती है तो पूरे बिहार में इसके लिए आन्दोलन शुरू की जायेगी। बैठक में महासचिव धीरेन्द्र कुमार निषाद ने अब तक जिस प्रखंड में मत्स्यजीवी समितियों का गठन नहीं हो सका है उसे शीघ्र गठन कराने की सरकार से मांग की।
बैठक में शशि भूषण कुमार, जलेश्वर सहनी, सुरेश प्रसाद सहनी, कृष्णा देवी, दिलीप कुमार निषाद, राम भजन निषाद, बैजनाथ सिंह, विनोद कुमार सहनी, देशेश जलज, रघुनाथ महतो, सुरेश निषाद, अभिमन्यु निषाद समेत कई लोगों ने भाग लिया।

Share To:

Post A Comment: