पटना, (रिपोर्टर) : सगुना मोड़ के डी एस बिजनेस पार्क के दुसरे तल्ले पर स्थित दृश्टिपुंज नेत्रालय में दृष्टिपुंज चैरिटेबल फाउंडेषन के सौजन्य से 12 मरीजों का निःशुल्क मोतियाबिंद आपरेषन किया गया। आगामी 20 फरवरी को विक्रम में मेगा कैम्प लगेगा। फाउंडेषन की डा0 वंदना कुमारी ने बताया कि सभी मरीजों को फेको एवं एसआईसीएस विधि से मोतियाबिंद का आपरेषन एवं लेंस प्रत्यारोपण किया गया। निदेषक रेटिना  विषेषज्ञ डा0 सत्यप्रकाष तिवारी ने बताया कि दृष्टिपुंज नेत्रालय के तहत हमारी टीम ने दृष्टिपुंज चैरिटेबल फाउंडेषन की स्थापना की है जिसका उद्वेष्य सामाजिक एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को उच्चस्तरीय नेत्र चिकित्सा प्रदान करना है। डा0 तिवारी ने कहा कि इस ट्रस्ट के सहयोग से समाज के कमजोर वर्ग के लोगों की नेत्र चिकित्सा हम भविश्य में भी लगातार करते रहेंगे। 

निदेषक डाॅ निम्मी रानी  ने कहा कि दृष्टिपुंज चैरिटेबल फाउंडेषन का गठन बिहार के मरीजों के सर्वोत्तम संभव इलाज और जुनियर डाॅक्टर एवं पैरामेडिकल स्टाफ के ट्रेनिंग की दिषा में भी प्रयासरत है। पिछले 2 वर्षों से दृश्टिपुंज नेत्रालय समाज के हर वर्ग के नेत्र चिकित्सा के लिए लगातार प्रयत्नषील है और इस रूप में पहचान मिलने से हम सभी को काफी गर्व और खुषी मिली है।
निदेषक ग्लुकोमा विषेशज्ञ डाॅ0 रणधीर झा ने बताया कि दृष्टिपुंज नेत्रालय सामाजिक दायित्वों के निर्वहन में काफी आगे है। समय समय पर स्कूलों में कैंप लगाना, मोतियाबिंद षिविर का आयोजन तथा जागरुकता रैली से लोगों को सचेत करना जारी है ताकि वे आंखों की बेहतर देखभाल कर सकें और समय पर चिकित्सकों से संपर्क कर सकें।  डाॅ0 झा ने कहा कि दृष्टिपुंज नेत्रालय में उपलब्ध सेवाएं बिहार के मरीजों के लिए काफी उपयोगी साबित हो रही है और आंखों की जटिल से जटिल बीमारियों के लिए मरीजों को अब  बाहर जाने की जरुरत नहीं पडती है। अत्याधुनिक मषीनों से आंख से जुडी हर प्रकार की  गंभीर बीमारी का इलाज दृष्टिपुंज नेत्रालय सगुना मोड, पटना में ही संभव हो गया है।

Share To:

Post A Comment: