पटना, (रिपोर्टर) : नीतीश कुमार की सरकार के सफाया होने का संकेत एक मार्च को गांधी मैदान में आयोजित कार्यकर्ता रैली ने दे दिया है। इस रैली से यह साफ हो गया है बिहार में एनडीए का कोई संगठन नहीं है। चन्दलोग सरकारी सुविधा भोग रहे हैं और कागजी संगठन पर विधान सभा चुनाव में 200(दो सौ) सीट जीतने का दावा कर रहे हैं।
       यह बाते लोजपा (से.) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. सत्यानन्द शर्मा ने जय प्रकाश नगर में लोजपा (से.) के कार्यकर्ता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि बिहार की जनता 15 साल बनाम 15 साल की तुलना कर रही है। एक 15 साल लालू राबड़ी के शासन काल में जो भय, भूख और भ्रष्टाचार वाला था जनता इससे मुक्ति पाने के लिए नीतीश कुमार को सत्ता में बैठाया। नीतीश सरकार का 15 साल उससे भी खराब निकला। भ्रष्टाचार, अफसर शाही, अपराध एवं महिलाओं को जिन्दा जलाने वाला शासन काल रहा है। जनता त्राहीमाम कर रही है। तीसरे विकल्प की तलास कर रही है।
       आगे डा. शर्मा ने कहा कि लोजपा (से.) तीसरे विकल्प के गठन की ओर अग्रसर है। 14 राजनीतिक दलों ने लोजपा (से.) के इस प्रयास को अपना समर्थन दिया है अभी अनेकों दलों के नेताओं से वार्ता चल रही है। पार्टी का जमीनी संगठन बनाये जाने की जरुरत है।
       सम्मेलन की अध्यक्षता पार्टी के उपाध्यक्ष नन्द किशोर यादव ने किया। सम्मेलन को पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष विष्णु पासवान, युवा लोजपा(से.) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल कुमार पासवान, पटना महानगर के संजय पासवान, रविशंकर कुमार, योगेन्द्र पासवान ने भी सम्बोधित किया।
      

Share To:

Post A Comment: